छात्रसंघ शुल्क, कोरोना पीड़ितों के लिए इस्तेमाल किये जाने की मांग

कोरोना पीड़ितों के सहायतार्थ जमा छात्रसंघ शुल्क का हो इस्तेमाल: मनीष
गोरखपुर। गोरखपुर विश्वविद्यालय के छात्र नेता मनीष ओझा ने उत्तर प्रदेश की राज्यपाल महोदया को पत्र लिखकर यह आग्रह किया है कि उत्तर प्रदेश के जिन-जिन विश्वविद्यालयों/महाविद्यालयों में छात्रसंघ चुनाव नहीं हुए हैं हर वर्ष छात्रों से फीस के साथ छात्र संघ शुल्क लिया जाता है उस छात्रसंघ शुल्क का अब सही समय है।


छात्र नेता मनीष ओझा ने राज्यपाल को पत्र लिखकर कोरोना महामारी को देखते हुए उत्तर प्रदेश के अंतर्गत आने वाले समस्त विश्वविद्यालयों/महाविद्यालयों जिसमें छात्र संघ चुनाव कई वर्षों से बंद है और हर वर्ष समस्त छात्र-छात्राओं से फीस के साथ छात्र संघ शुल्क वसूला जाता है उस जमा रुपए को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा कराने हेतु सभी विश्वविद्यालयों/महाविद्यालयों के कुलपति/प्राचार्यो को निर्देशित करने की मांग की है। श्री ओझा ने कहा कि इस तरह थोड़ी सी मदद कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज में सहयोगी बनकर एक स्वस्थ भारत का निर्माण करने में मददगार बन सकती है। मनीष ओझा ने कहा कि भारत वर्ष इस समय नाजुक दौर से गुजर रहा है इस नाजुक घड़ी में सभी राजनेता/अभिनेता/उद्योगपति/सक्षम नागरिकों द्वारा इस लड़ाई से लड़ने हेतु भारत सरकार एवं अपने-अपने राज्य सरकारों को सहयोग राशि देकर मदद करने के लिए अग्रिम पंक्ति में खड़े हैं तो हम सभी छात्रनेता/छात्र-छात्राओं की भी जिम्मेदारी बनती है भारत का नागरिक होने की हैसियत से प्रथम कर्तव्य बनता है कि हम भी अपने सरकार की मदद करें और कोरोना को भारत से भगाएं।


Popular posts